बहुत मुश्किल है

When you are writing there is always a constant struggle to find meaning in life which can be translated into words and then stitched into poems. Have just tried to portray that dilemma via my own words.

हर कविता में
फ़लसफ़ा कहाँ से लांऊ
अभी तो लिखना शुरू किया है
हर लिखाई में वफ़ा कहाँ से लांऊ

आधा जीवन निकला
सीखा बहुत कम है
आधा है बाकि
या वह भी एक भ्रम है

जो गुज़र गयी है
उसको लिखुँ
या जो बाकि बची है
उसमे दिखूं

सवाल पर सवाल है
और लिखने को कुछ नहीं
जो कुछ नहीं था लिखने को
तो वही लिख दिया बस यहीं

अब चैन है
मन शांत हुआ
इस कविता के किस्से का यहीं अंत हुआ I

संदीप व्यास
०४/०३/२०१८

Picture Credit – Honfleur Gallery The State of Confusion – James Terrell

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s