जेबों की बीमारी

We have our basic needs – Food, shelter, clothes etc. As we satisfy our basic needs, other desires start shaping up. Then we start running in a race to fulfill them. If we don’t control them and continue to get driven by our insatiable need for more, they start controlling us. That’s when  we die.

इन जेबों का अलग ही किस्सा है
वो जो जेब दफ़न है
उसमे भी कई जेबों का हिस्सा है

बचपन की जेबें
छोटी हुआ करती थी
जितनी जरुरत हो
बस उतनी ही सिया करती थी

जो फट जाती थी कभी
तो निकल जाती थी
चीज़े सभी
बग़ल की जेब में जिंदगी
फिर भी जिया करती थी

आजकल हम जेबों में ही
बसते हैं
बस कभी कभार ही हसंते हैं
और जो फटती हैं जेबें कभी
उन्ही से कफ़न भी कसते हैं

फिर भी
जेबों में जेब हमारी है
हम सब को जेबों की बीमारी है

संदीप व्यास
०४/११/२०१८

Photo Credit – http://www.4usky.com/painting-wallpapers.html

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s